Amrjeet Kumar वाह री जिन्दगीजीवन की आधी उम्र तक पैसा कमाया बाकी आधी उम्र तक उसी पैसे को

.
             *वाह री जिन्दगी*
               “”””””””””””””””””””
*जीवन की आधी उम्र तक पैसा कमाया,*
*पैसा कमाने मे इस शरीर को खराब किया।*
*बाकी आधी उम्र तक उसी पैसे को,*
*शरीर ठीक करने मे लगाया।*
*न शरीर बचा, न पैसा ।*

            *वाह री जिन्दगी*
          *”””””””””””””””””””””*
*श्मशान के बाहर लिखा था!*
*मंजिल तो तेरी यही थी!*
*बस ज़िन्दगी गुजर गई आते आते*
*क्या मिला तुझे इस दुनिया से*
*अपनों ने ही जला दिया तुंझे जाते जाते*…

    *_़़़़़वाह री जिंदगी़़़़़़_*
            *””””””””””””””””””*
*दौलत की भूख एेसी लगी कि कमाने निकल गए!*
*जब दौलत मिली तो हाथ से रिश्ते निकल गए!*
*बच्चों के साथ रहने की फुरसत ना मिल सकी!*
*फुरसत मिली तो बच्चे कमाने निकल गए!*

     *_़़़़़वाह री जिंदगी़़़़़़_*
             *””””””””””””””””””*

Leave a Comment

Your email address will not be published.